चन्द्र प्रेम

वह चंद्र बिन “ज्योत्स्ना” के, ज्यों पथ बिना विकास,

वह दीप बिन अंधियार के, ज्यों दिनकर को प्रकास

वह ताल बिन झंकार के, ज्यों सरगम बिना राग,

वह ज्ञान बिना भक्ति के ,ज्यों तप बिन त्याग,

वह संगत बिन संतन के , ज्यों भोजन बिन साग,

वह मुक्ति बिन प्रभु आपके, ज्यों प्रीत बिना अनुराग।।

Advertisements

आज़ादी

आज “आज़ादी” के मायने को बदलते देख मेरा मन व्यथित हो गया , जो हमने पढ़ी और जो “आज़ादी” आज के नए नापाक इरादों से लेस देश को टुकड़ों में बाँटने पे लगीं हैं उन लोगों से मेरा यह क्रोधित कवि हृदय जो कहना चाह रहा है उसे पढ़ें ,अच्छा लगे तो जवाब ज़रूर दें। देश को सही दिशा में लेजाने का समय आज है अगर हर कोई यूँ ही मुँह उठाए “आज़ादी” चिल्लाने लगेगा तो कैसे होगा।

“आज़ादी” के दीवाने थे वो ,

जिन्हें नमन किए जाते हैं ,

“सिंह”सी दहाड़ लगाते थे,

ना गोली से कतराते थे,

देश की आन बचाने को,

कभी पीठ नहीं दिखाते थे,

हँस हँस कर फाँसी पे चढ़े,

“माइँ रंग दे बसंती ” गाते थे,

शुक्र है !जो वो आज रहे नहीं,

नहीं ,आज सहन कर पाते थे,

ये “आज़ादी” के “शूकर” हैं,

दुनिया से भगाए जाते है,

रंग “हरे” उस दुश्मन की,

ओढ़ ओढ़ चिल्लाते हैं,

नमक देश का खाते हैं,

राग दुश्मन का गाते हैं

चलो,

अब इन “आस्तीन के सांपो को”,

बाज़ुओं की हिम्मत दिखाते हैं ,

फेंको- फेंको चिल्ला रहे,

आओ इन्हें फेंक आते हैं ।। #निवेदिता #Nivedita

लड्डू

काश! के ऐसा कोई यंत्र होता,

तो शायद ना मेरा मन यूँ रोता,

कहाँ वो समय मेरा खो गया,

मेरा बचपन यूँ बड़ा हो गया ।।

यूँ तोतली बोली में कहता,

भुआ मैं निर्मल जल हूँ बहता,

निरंतर चिरंतर बहता ही रहता,

भुआ को वो सारी कहानियाँ कहता,

भुआ का समय ज़रा कड़ा जो हुआ,

मेरा लड्डू अब बड़ा हो गया..

ले अभी दादा को कहती हूँ,

बदमाशियाँ जो तू हैं करता,

ना दादा से ना पापा से कहना,

मैं देखो कितना सयाना हो गया,

मेरा नन्हा सा लड्डू बड़ा हो गया,

सहसा ही मुझको एहसास हो गया,

वो मेरा लड्डू बड़ा हो गया ।।

भुआ का आँगन जो अब उसने छोड़ा,

लड़कपन के प्रांगण में यूँ भाग दौड़ा,

अचम्भितहूँ मैं, एक क्षण ना छोड़ा,

सहसा ही मेरा दाऊ बलराम हो गया,

छोटा सा नन्हा मेरा लड्डू बड़ा हो गया ।।#निवेदिता

❤️ love is ❤️

Love is pain,

Love is Rain,

Love is patience,

Love is essence,

Love is pure,

Love is divine,

Love is kind,

Love is missing

Love is kissing

Love is sunshine,

Love is light,

Love Is bright,

Love is Tea,

Love is coffee,

Love is tender,

Love is soft,

Love is giving,

Love is receiving

Love is emotion,

Love is potion,

Love is devotion,

Love is dedication,

Love is unconditional,

Love is leaning,

Love is reaching,

Love is.. togetherness

Love is.. him in her heart ..

Love is wishing..

Love is leaving ..

Love is to cry and say goodbye.. Jyots

कल

क्या यह रात कटेगी ? मान लो कट भी गई फिर?

कल सुबह ? क्या होगा ? बता दें ज़रा यह प्रश्न बस ज़िंदगी के लिए ।

ऐ ज़िंदगी गले लगा ले।

how to take care of a newborn baby  

My personal experience : how to take care of a newborn baby

My daughter is 3 months old now. While I am loving this phase of motherhood with my daughter sleeping better, feeding properly and of course, communicating with me in her own cute ways, things weren’t like this when we first started out. The joy of becoming first time parents cannot be put into words but then it can be tough too. A newborn brings with him/her a lot of responsibilities and most new moms aren’t prepared for it. However, a little help from experts and family can help you navigate through this difficult period easily.

While understanding and responding to the needs of a newborn baby is an ongoing process and one learns only with experience, it’s important to be prepared ahead of time so you don’t panic or feel overwhelmed later. I hope these few tips will make parenthood a little easier for you in the initial few days.

1. Nursing/ Breastfeeding

Nursing is one of the most beautiful ways to form an ever-lasting bond with your new-born. However, it can be pretty challenging to start with. From sore nipples to latching issues, there’s a lot you need to understand. Thus, it’s advisable to seek help either from a lactation expert or a friend with kids. Eat healthy and try to feel positive about the whole experience.

2. Sleeping

Newborns either feed or sleep with 18-20 hours of sleep throughout the day. Babies should always be made to sleep on their backs. Their bedding should be warm and cozy. Always have their face and head stay uncovered while sleeping and if possible keep the blankets tucked under their feet so that it doesn’t slide on to their faces.

3. Bath care

Bathing should be avoided till the newborn’s umbilical cord comes off naturally. A wet cord can easily get infected and will take time to shed off. Go for sponge baths instead.

4. Clothing and Diapers

A newborn’s clothes need to be loose-fitted preferably with buttons in the front. But more than the clothes, you need to pay attention to the diapers. Check and change your baby’s diapers frequently and as soon as possible after they soil it. Applying a layer of coconut oil before putting on a new diaper helps in fighting any rashes. Do give them some diaper free time so that their skin can have some fresh air too.

5. Keep them safe and secure

Here I am talking about keeping them safe from both the seasonal changes and also from discomfort caused by mosquito bites. While using safety nets designed especially for babies is useful, it is also recommended to use Goodknight repellents to keep mosquitoes at bay. I personally always stick the 100% natural Goodknight Patches on my child’s clothes. They are paediatrician certified and come in fun Chhota Bheem designs that you’re little one would love. You could even try the 4 dots of the revolutionary Goodknight Fabric Roll-On that are to be applied clothes. For babies younger than 2 months of age, the 4 dots can be applied on their cots, strollers and prams.

I know, every parent and every baby is different and we all want only the best for our babies. But trust me, there are a few things that are the same with all babies and with little patience and help, we all can learn the tricks of the trade soon.

Happy Parenting! 🙂

I “मैं”

जानती हूँ टूट चुकी हूँ , broken I am , I know….

Few friends took advantage of my feelings my innocence..

जिन्हें मैंने दोस्त माना उन्होंने मेरी भावनाओं के साथ खेला ..

I was married he asked me to get married again .. I controlled a lot I got Carried away..

शादीशूदा होते हुए भी उसने मुझसे शादी के लिए पूछा ।

मैं शायद भावनाओं में बह गयी ।

I never knew my own friends playing on me .. He said she is obsessed with a hero who is just not a successful one but she wants to be around .. I Said No they are my friends .. when I asked him I don’t wanted to be physically around him I denied he was just seen playing around the same friend he said is desperate about the Hero .. in my words my Hero .. in his words ” Flop Third grade Drunken Hero “

Lol 😂 😂 ….

मुझे पता था मेरे दोस्त मेरे साथ खेल रहे हैं ।उसने कहा वो लड़की उस हीरो के “आँचल” में “होश” गवाँ बैठी है जब मैंने रोष जताया और उससे शारीरिक तौर पे संलिप्त होने से माना किया उसने अपने “आँचल” में उसे लपेटना शुरू कियाजिसे वह कुछ दिनो पहले किसी तीसरी श्रेणी के हीरो के संलिप्त होने का लांछन लगा रहा था ।।

वाह रे मेरे मन । मनु: स्मृति 😂😂😂😂😂

निवेदित” Nivedita “। “निवेदिता”

ps : It is A fictionstory my first try in writing ✍️ fiction short stories read the next part hope you like it.

यह एक काल्पनिक कहानी है , पहली कोशिश है अभी अधूरी है आशा करती हूँ आप पढ़ेंगे और पसंद करेंगे ।

नमन किसे ?

क्या मात्र वे शहीद हीं हैं जिन्हें हमें नमन करना चाहिए ? क्यूँकि जो जीवित हैं उन्हें हम मात्र शिकायत करते देखते हैं। कुछ दिनों से कुछ लोगों को पढ़ रही हूँ दुःख होता है यह जानकार की लोग बस हमारी आस्था और विश्वास पर अपने मनोरंजन और कामनाओं के भुट्टे सेकने आते हैं ।

हम आप जितने समझदार ना सही ना हमारे कई चेहरे हैं , उन जितने .. पर जनाब कुछ तो सेना ने आपको भी दिया होगा ज़्यादा नहीं तो तन ढँकने जितना वस्त्र और पेट भरने जितना अन्न? क्यूँ अन्नदाता के पेट पर लात मार रहे हैं ।घिन्न आती है आप जैसे विचारधारा वाले लोगों पर और उसे समर्थन देते वरिष्ठ अफ़सरों पर ।

अगर कोई मुझसा अनभिज्ञ आकर आपत्ती जताए तो पूरी की पूरी टोली समर्थन में खड़ी होती नज़र आती है कहतें हैं भावनाओंकी क़द्र करो वे बूढ़े हैं । बुज़ुर्गों को तो बुज़ुर्ग बनना चाहिए मार्ग दिखाना चाहिए । उन्हें पढ़करना तो कोई हम जैसा सेना में न आना चाहेगा।

आपसे तो हम अच्छे हैं जो इस गान पे रो देते हैं की तुम खड़े हो सरहद पर तो हम बैठें हैं घरों मे

शायद आपलोगों को मेरी हिंदी ना समझ आती हो परंतु भावनाओं को समझने का प्रयत्न करें आप लोगों को मुझ जैसे कितने ही भारतीय पढ़ रहे हैं आप क्या परोस रहे हैं? सोचिए ।।.. निवेदन निवेदिता