वफ़ा

पहले तो तेरे काँधे पे ,

सिर रख लेता था ,

जब ज़माने से ,

लड़ लेता था ,

तब तूँ वफ़ा की ,

रस्में निभाती थी ,

और मैं तुझे

बाहों में बाँध लेता था ।

अब तूँ तो नहीं ,

पर तेरी यादें,

हर लम्हा आती है ,

करवटों में रातें ,

गुज़र जाती है ,

नींद तो आती नहीं,

सपनो में तूँ फिर भी ,

खुलेआम सताती है ।

ना मैं भूल पाया ,

ना तूँने मनाया ,

जीने को बचा है

बस ग़मों का साया

माना के मैं ग़लत हूँ ,

पर ग़लती क्या थी?

वो तो बताके जाती।

ख़ैर !

समझाता हूँ दिल को ,

कि क्यूँ नाराज़ होना ,

और इंतज़ार करना ,

जनता है तूँ भी ,

के बेवफ़ा नहीं वो ,

मान जा ऐ दिल ,

बेकार है जिद्ध करना ,

उनसे वफ़ा की ,

उम्मीद करना .. #निवेदिता

Advertisements

नौसेना दिवस की बधाई

न देश रुकेगा न झुकेगा , 

बढ़ेगा बढ़ते जायेगा ,

हर कदम पर साथ होगा ,

संकल्पित हमारी ,

सैन्य शक्तियाँ, 

न थकेगा न डरेगा ,

न कमजोर पड़ेगा ,

थल जल वायु, 

सुरक्षित होगा ,

नौसेना का वाक्य ,

“शं नो वरुणः”

गुंजाएमान हर ओर ,

“नौसेना दिवस “को होगा ,

दृढ़ता से सुध्रिढ़ होगा ,

सैन्य शक्तियों से लैस ,

प्रहरी सीमा पे तटस्थ ,

तैय्यार करने को प्रहार ,

ग़द्दारों अब ख़ैर नहीं ,

हो जाओ ख़बरदार .. “निवेदिता”

नन्ही बिटिया

नन्ही बिटिया ,

नन्ही तुझको मैंने पाया

मेरे गोद की चंचल छाया,

चाँद से प्यारा ,

अंखियों का तारा

दूर सुधूर ,

क्षितिज सा नज़ारा,

नज़रों में फैला उजियारा ,

नयन तारों सी टिमटिमाती,

नन्ही कोंपल प्रस्फुटित ,

घर -आँगन महकाती,

कूकती कोयल सी “कूहू”

भागे नन्ही हिरणी हो ज्यूँ ।

मेरी पलकों में छाया,

सूर्या की किरणों में समाया ,

स्वप्निल सपनो का सरमाया ,

उज्जवल स्वर्णिम काया ,

उस पत्थर मैं भी मैंने तुझको पाया ,

जिसे सबने “भगवान “ बनाया ।”निवेदिता”

केसरिया

सर्द सुबह थी,

हाथ बर्फ़ीले,

नर्म स्पर्श से,

उसके हाथ गर्म हुए,

और मेरी चाय .. “केसरिया “

प्याला एक, हम दो

एहसास एक,हम दो

कब दो एक हो गए,

और प्यार अमृतुल्य हो गया,

और मेरी “चाय “ .. केसरिया

उबलते पानी में,

पत्ती का घुलना,

अदरख के संग,

इलायची का मिलना,

दूध के संगम से,

मेरी चाय .. केसरिया

दो घूँट ज़िंदगी के,

जो उसके होठोंसे,

मिले तो उसके होंठ ,

लाल से सुर्ख़ लाल हुए ,

और मेरी चाय .. और “केसरिया”..(c)निवेदिता

He met me

He met me , I met him ……………

have not seen these eyes

Someone who is so beautiful

At heart soul and everything

I am happy because

Every color started to fade

in front of his whim

Tears vanished only i could see

Is lucky me

False shattered, Truth is Shining

Found a glittery diamond

see everyone Its him ……………

Life that seemed

to be incomplete till now

Suppose he has got an execution

To the Dark night and

A moon found on this new moon day in him …………… ..

Long is the journey of life

and my mind is his mind

With whom I am looking forward

I got that hand

I am very happy today,

Because he met me ,

And I , met him….. “Nivedita”

तुमने

वो हूँ ,जिसे समझा नहीं तुमने,

मैंने माना ,जिसे माना नहीं तुमने,

तू भगवान है मेरा ,

मुझे दास भी माना नहीं तुमने,

मेरा जीवन तुझसे ये मैंने माना,

तन-मन से अपनाया,

बसाया आत्मा में तुमको मैंने

एक पल भी मुझे अपना बनाया नहीं तुमने …

स्वप्न बुने मैंने जो मात्र मेरे ही थे ,

नहीं कोई सरोकार है तेरा ,

मुझे “मानव”से निवेदिता बनाया भी तुमने,

नहीं इज़्ज़त कोई मेरी जबसे बताया है तुमने ..

टूट गए वो स्वप्न बिखर गए,

जिन्हें कभी दिखाया भी था तुमने..

जीवन मैं एक स्वाभिमान ही था मेरा,

गर्व इज़्ज़त से कमाया , था ऐसा अभिमान,

शायद अहम था जिसे मिटाया भी तुमने..

आज ना देने को बचा ना खोने को,

ना जीने को ना हँसने को ..

रो रो के जीना , सिखाया भी तुमने .. “निवेदिता”

शांति

जब तूफान के बादल ,

मेरे चारों ओर उबाल लेंगे,

और बिजली आकाश का

वीभाजन करेगी ,

जब हवा की चोंच ,

मुझ पर आक्रोशित होंगी ,

और जीवन का समुद्र ऊफान पर होगा ,

जब आशंकित दिल मेरा निरस्त होगा

मैं और मेरा मन आशंका से भरा होगा ,

कहीं से ठंडी हवा का झोंका आएगा

मझे आश्वस्त कराएगा , मुझे और

मेरे मन को , शांति और आराम देगा ।।

जब जीवन की आपाधापी में ,

उलझने होंगी ..

और मेरा विश्वास कम हो रहा होगा ,

और मेरा दिल दर्द से ,करहा रहा होगा ,

जब रात भयावह काली और अनंत होगी ,

तब मुझे एक चांदी की चमक मिलेगी,

चमकते चाँद की “ज्योत्सना “ यूँ प्रतीत होगी ,

ज्यूँ ,काले आकाश से परे, 

सब चीजें होंगी ,

धरती ऊपर को देखती अचम्भित होगी ,

मोहित उस कांति पे ,

मैं ही नहीं ,

धरा भी होगी .. “निवेदिता”