बचपन

नन्हीं सी आशाऐं मेरी,

नन्ही सी मेरी चाहत हैं।

न रूठने का कारण कोई,


पर हंसने के बहाने अंनत हैं।

न उठने की जल्दी कोई,


न दफ्तर जाने की जल्दी है।


दीदी असली बन कर घूमूं,


लेकिन छोटा भाई नकली है ।

अंक गणित के तारों में देखूं,


लेकिन सपनों में चंदा मामा हैं।

दादी के किस्से कहानियों में


परीलोक की स्वप्निल परियां हैं|

खिलौनों का ये अंबार लगा है


मेरी खुशियों का यह खजाना है।

नन्हा सा यह बचपन मेरा  नित


नव भविष्य का स्वप्न संजोता है। 

©ज्योत्स्ना “निवेदिता”

4 thoughts on “बचपन

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s