क्या बात है !

किताबों के पन्ने पलटते  ही सोचता हूं की,

यूहीं पलट जाये जिंदगी मेरी तो क्या बात है !


तमन्ना जो पुरी हो ख्वाब मे,

वो हकिकत बन जाये तो क्या बात है !


मतलब केलिए तो सब ढुंढते है मुझे,

बिना मतलब के कोई ढुंढे तो क्या बात है !


जो शरिफों की शराफत मे ना हो बात,

वो एक शराबी कह जाये तो क्या बात है !


कत्ल करके तो कोई भी ले जायेगा दिल मेरा      

मिठी बातों से कोई ले जाये तो क्या बात है !


जो वो तनहाइयों को ना समझे तो क्या बात,

हम चिल्ला कर ख़ामोशियों को कह गए ये हुई बात !


कहने को जब कुछ बचा नहीं तो क्या हुई बात ,

फिर भी शोर मेरे ख़ामोशियों का सुन गए ये हुई बात .


अब निवेदन ही निवेदित ना कर पाए यू हुई बात ,

बोलते ही चिल्लाने की सज़ा मिले ये  बुरी बात! पर यथार्थ । ..निवेदिता

Advertisements

39 thoughts on “क्या बात है !

          1. आपको और आपके परिवार को नववर्ष 2017 की हार्दिक शुभकामनाएं ll ईश्वर से यही कामना है कि आने वाला प्रत्येक नया दिन आपके जीवन में अनेकानेक सफलताएँ एवं अपार खुशियाँ लेकर आए ll Happy new year 👌👍

            Liked by 1 person

  1. क्या बात क्या बात ……
    दिल की वो बातें जिसको कई बार शब्द मिल नही पाते वो आवाज आप जो लिखते हो उन में स्प्ष्टत नज़र आती है …..
    😊🙏🏼

    Liked by 2 people

    1. Bahut sunder lines hain Ananya 😊 aap jaisi choti choti kayivatriyon se milkar motivation milta hai , hum apne aapko sukshm pate hain aaplogon ki pratibha ke agei. .. sadhuwad aapko .. keep writing and stay blessed ☺

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s