हिंदी

हिंदी दिवस पे मेरी मातृ भाषा को मेरी छोटी सी कृति समर्पित हिंदुस्तान के रहने वालो हिंदी अपनी बोली

bhaatdaal

अंग्रेजी के पीछे भागें हिंदी की हिंदी होली
पाठ मास्टर ने जो सिखलाया उसको भूलगये हैं
ABCD जाने सभी कोई अ आ याद नही हैं
हिंदी को ही नीचा देखें खाना यहीं पे खाके ,
ऐसे बाबू जेंटल मैन हरदम झूठी शान ही हांकें।
भावनाओं का क़त्ल हुआ है संवेदना हुई विहफल
थैंकू ,सॉरी ,प्लीज हैं मुंह पे मायने हैं इनके खोखल
संस्कृत जिसकी जननी है वह हिंदी इतनी बलवान
सीखें सारी भाषायें पर न भूलें मातृ भाशा का ज्ञान
हिंदी पे बिंदी न जड़ दें रखें इसका ध्यान
गौरवान्वित हूँ में रहे सभीको यह भान
हिंदी मेरी भाषा है और मेरी हिंदी महान। …. ” निवेदिता ”

View original post

Advertisements

23 thoughts on “हिंदी

  1. बेहड़ खूब ज्योत्सना जी
    “हिन्दी देश में हिन्दी का सम्मान देखिए.!
    हिन्दी दिवस एक दिन ३६४ दिन इंग्लीश डे.!”

    Liked by 2 people

      1. ज्योत्सना जी आपके ब्लॉग में तो ज़्यादातर हिन्दी का ह आप इस्तेमाल करते हैं,
        तो आप खुद को गुनहगार कैसे मान सकते हैं?

        Liked by 1 person

  2. kal hi padha maine Suprit ki Hindi woh bhasha hai jo hamein agyani se gyan tak lejata hai aur gyani bana deta hai .. A se agyani gya se gyan .. kisi aur bhasha main aisa gyan nahin par vidambana yeh hai ki humein Hindi bolna ya likhna nahin aata .. chahke ek ghanta hindi mein nahin baat kar sakte .. bahut khed hai mujhe nauvin ke bacchon ko Abcd aati hai pe a, aa nahin ..varmala bhool gaye hain .. Hindi ke acche din jane kab aayenge

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s