शब्द 

छोटी सी बगिया है हमारी जिसका नाम है “Bloggers Junction” जहाँ  एक से बढ़कर एक , हर तरह के “शब्दों “के खिलाड़ी मौजूद हैं , जो शब्दों से खेलकर नए नए फूल खिलाते हैं ,और हमारी बगिया को शोभायमान करते हैं । आज की संरचना सभी के शब्दों का निचोड़ है .. सभी ने अपने शब्द मेरी कविता के लिए दिए हैं .. मैं उन सभी की आभारी हूँ और गौरवान्वित हूँ की मेरे ब्लॉग पे यह कृति पेश की जा रही है .. 


P. S. : शब्द पे लिखी गई यह करती सभी की कविताओं का मिलन है । आशा है हमारा यह प्रयास  सभी को पसंद आएगा 


“शब्द”

ओ शब्द!

गरल न तुम हो जाना,

तोड़ न देना कोई

रिश्ता पुराना।


ओ शब्द !

रिश्तों में मिश्री
तुमसे ही हो,

प्रसन्नता का तुम

सबब बन जाना।


ओ शब्द!

पहचान मेरी

तुम ही बनो

और रचना की तुम

गरिमा बन जाना।.. आरती मानेकर 


ओ शब्द !
तुझे स्वप्न नगरी से बाहर 

“स्वप्निल “को जोड़ा 


ओ शब्द !

कहीं अग्नि की ज्वलन 

सागर से बुझाकर 

सौंदर्य की किरणों 

से ओजस्वी बनाया 


ओ शब्द !

 लेखनी से घिसकर

सुहागे से चमकाकर

शब्द तुझे स्वर्णिम बनाया .. स्वप्निल 


ओ शब्द !

मेरे शब्द अब मेरे नहीं 

जो कविता बन पाते,

वो जो “रमन” को कवि बना पाते ,

लिखने की कला भी नहीं  

मुझ अनपढ़ को शब्दों का खेल ,

समझ नहीं आया ।


ओ शब्द !

धन्यवाद उसे जो मेरी सोच को बदल कर 

मुझे अपना बना लिया 

मेरे शब्द उनके शब्दों से जोड़कर 

जीने का फलसफ़ा सिखा दिया.. रमनप्रीत 


ओ शब्द !
अब तो उनके शब्दों से 

अपने शब्दों से मिलाना ,

जहाँ शब्द मेरे और 

गीत उनके हों , ऐसा 

सुँदर संयोग बनाना ।


ओ शब्द !

वो शब्द जो मेरे आकार बने ,

दोनों के शब्दों का मिलन हो जाए 

जहाँ आप से वो तुम बन जाये 

और गीत, मेरे प्रीत के गाए .. निवेदिता 


ओ शब्द !
अब सोच मेरी ,शब्द उनके हों 

अहसास मेरे ,शब्द उनके हों 

उमंग मेरी शब्द उनके हों 

ख़ुशी मेरी ,शब्द उनके हों 

आस मेरी ,शब्द उनके हों 

उम्मीद मेरी ,शब्द उनके हों 

ऐसी लगन , कि बोलूँ तो मैं पर 

“शब्द ” सिर्फ़ उनके हों .. धीरज आनंद 


इन शब्दों के साथ एक नया शब्द आकार किया एक नई कोशिश को साकार किया … निवेदिता 🙏

सभी साथियों की कृतियों को आप यहाँ पढ़ सकते हैं :

http://ramandipreet.wordpress.com/

http://poemsbyarti.wordpress.com/

http://fairytaleofsimplegirl.wordpress.com/

http://extinct0703.wordpress.com/





31 responses to “शब्द ”

  1. Hope all the kids we tried to nurture are prospering and doing good. May God bless them all.

    Liked by 1 person

  2. शब्द हमें कार्यान्वित करते हैं; और कार्य बिना, शब्द निरार्त्थक हो जाते हैं! 🙂

    Liked by 1 person

    1. आपका ज्ञान और दिशा निर्देश मुझे प्रोत्साहित करता है । यूँ ही आशीर्वाद देते rahein

      Liked by 1 person

      1. अवश्य, मेरी बेटी! मेरा आशीर्वाद सदा तेरे साथ है! 🙂

        Liked by 1 person

  3. Reblogged this on extinct0703 and commented:
    एक और संयुक्त प्रयास ब्लॉगर जंक्शन परिवार की तरफ़ से।

    Like

  4. Ek ek karke bahot sundar haar mala taiyyar ki hai, shabdon ke liye sabhi badhai ke paatra hain.

    Liked by 1 person

    1. Thank you Dheeraj credit goes to you all 🙂

      Liked by 1 person

  5. Khobsurat😍👌👏

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद 🙂

      Liked by 1 person

  6. Awesomeness this poems are 😘😘😘

    Liked by 1 person

    1. Thank you for giving me this opportunity, kindly post your poem now 🙂

      Liked by 1 person

      1. i had posted it di 🙂

        Liked by 1 person

  7. Omg……rnt u some kind of genius? Bloody he’ll….wow.
    .I can’t think this much…man m bumbstruck

    Liked by 1 person

    1. Swappy you already did .. And yeah they all including you are genious .. A Bow to all !

      Liked by 1 person

      1. Oh plz yar…seriously it’s brilliant.. I tried to think on same topic so I can’t make out wat u hv written

        Liked by 1 person

        1. Thank you Swapnil sabhi ki mehnat hai isme 🙂

          Liked by 1 person

  8. सुंदरता के साथ आलिंगित किया है हर कविता को…!

    Liked by 1 person

    1. सीख आपलोगों से ही मिली है . वरना मेरी क्या बिसात , प्रेरणा का उद्गम व स्त्रोत आपलोग ही हो ।

      Liked by 1 person

  9. Bahut sundar prayash…

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद निष्ठुर जी यह प्रयास है ” एक ” आपकी कविता में कहा ना सभा “one ” शब्दों के मोतियों को एक कविता में पिरोया गया है .. आभार आपका ।

      Like

  10. बहुत बढ़िया 👌👌👌👌

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: