चाँद 

मुझे रंज है तुझसे ऐ चाँद , तू वहाँ तेरी ज्योत्सना को  अपनी आग़ोश में लिए बेठा है , 


यहाँ ज्योत्सना का चाँद ,कहीं काजल की स्याह में छुपा बैठा है , 


बादलों की झुर्मठ से झाँकता ,निकलता फिर छुप जाता , 


यूँ लुका छिप्पी खेलता दीख़ता है , बादलों के गोद में प्रेयसी के साथ खेलता है ,


मैं ना खेलूँ, तो भी उसे कहाँ फ़र्क़ पड़ता है , बस ऐसा कहकर दिल को ठंडक सा मिलता है ।        


 ” निवेदिता “

Advertisements

17 thoughts on “चाँद 

  1. मुझे चाँद से रंज नहीं
    वो तो किराए की रोशनी पर इतराता है
    इसलिए मुझे सूरज ही भाता है

    Liked by 1 person

    1. मैं ज्योत्सना चाँद की हूँ , मेरा तीज चाँद अन्नदाता है , सूरज तो अग्रज मेरे , उनके ऋण से ऊरिण होना – जैसे मातपिता का ऋण चुकाना है

      Like

    1. Why don’t you write more , complimet or critcize anything write well .. वाणी में ना कंजूसी हो ना दरिद्रता । खुलके लिखो आगे से

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s