किताब 

नए नए अल्फ़ाज़ों में 

उमंगें हैं नयी नयी ‘

नए नए से चेहरे हैं ‘

हर चेहरे की एक किताब नयी.……।  



मैंने उस किताब को चुनि   

जिसे पढने वाले पहले से हैं, 

बहुत से अल्फाजों में ,

गौण मेरी आवाज़ कहीं। ………….  



किताबें और बहुत हैं आलों (शेल्फ)में 

धूल जमी हैं पर्तोंपरत 

नईं पुस्तक रोज़ शामिल किऐ 

पुरानी किताबें वहीँ पड़ी। … 



पुराने शब्द धूमिल भये 

शब्द कोष में शब्द नहीं

मिटती स्याही लेखनी की , बस 

शब्दों की माला झूल रही …। 



हाथ फेरती पन्नों पे 

छुवन लकीरों की महसूस हुई 

आस कहीं अब भी बाकी है

उस किताब को पाने की … । 



मेरी पुस्तक अब भी वहीं 

बीत गए साल केयी 

यूँही मँझधार में झूल रही 

जो ख़त्म अभी तक हुई नहीं ..।



खुले पन्ने बिखर रहे हैं 

जिल्द पुरानी बची नहीं

उन पन्ने को पलटने से 

आने वाली मुस्कान नयी ……। “निवेदिता”

Advertisements

37 thoughts on “किताब 

  1. निवेदिता 🙂
    “मैंने उस किताब को चुनि, जिसे पढने वाले पहले से हैं,
    बहुत से अल्फाजों में ,गौण मेरी आवाज़ कहीं ||”

    सच तो यह है की आपकी आवाज कभी गौण नहीं, जो दिल से लिखते है वह दिल मे पहुचते है ||

    Like

  2. वाह क्या बात है 👏
    लेखनी का स्तर हो तो तो कुछ ऐसा, शब्दों को अर्थों की मालाओं में पिरोकर रचनात्मकता का अद्भुत प्रदर्शन ।

    Liked by 1 person

  3. I know this is the wrong place to post this reply …but I only seem to be able to do it here ….it’s in response to your ‘kids and me’ post ….I LOVE it!!! …I’ve only just seen it …it really made me a laugh on a day when I needed it …your spirit shines thro across the ether lady …even tho I’m having problems accessing your site properly on WordPress :):):):):):) THANKYOU for being you:):):):):):):)

    Liked by 1 person

  4. अतिश्योक्ति नहीं होगी अगर मैं कहु की आपकी रचना आपकी सोच आपके विचार अत्य्धिक सुन्दर मनलुभावन है। हर बार आपसे सीखने को मिलता है। नए पहलु नई बातें नई रीत जीवन की समझ आती है आपकी कवितायों में से। आपका तहदिल से शुक्रिया इतनी सुन्दर तरीके से जीवन शैली को उकेर कर सामने रखने के लिए।

    Didi meine bhi poem(s) likhi hai aj time nikal ke pdhna zarur aur kamiyaa-peshi btana aur seekhne ka moka dena. thanks

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s