हे राम नहीं श्री राम कहो २

हे राम ! आपकी जय होवे  ..
है ,इतनी कहाँ बिसात मेरी ,
की हम आपको  जय करें ?

बस राम हमारा निकले नहीं ,

है निवेदन, ” निवेदिता “का 
बारम्बार स्वीकार करें,
दें हिम्मत हमको कहने की ,
हम 🙏हे राम! नहीं  .. श्री राम !कहें .. 

 
प्रभु के प्राकट्य के उत्सव पर ,

सब मिलकर जय घोष करें,

कर बद्ध विनती है ,उद्धार करें, 

सदबुद्धि- विश्वास का संचार करें,

लक्ष्य  की खोज में निकल सकें ,

बढते जाएँ कहीं रुकें नहीं ,

बस इतनी सी विनय सुने मेरी दें शक्ति हमें,

हम  संतुष्ट रहें और  ,

श्री !राम !! कहें , हे ! राम !! नहीं .. 

  
दुख में कदम डगमगाए नहीं ,

यश शक्ति मेरी अक्षय करें,

चाहना आपकी हो मुझे ,

चाहना चाहतों की आपसे हो नहीं ,

मिलकर सब जयघोष करें,
और इतना सा सब याद रखें,

दुख हो या तनाव कोई, हम ,

श्री !राम कहें , .. हे !! राम नहीं … ” nivedita “

Advertisements

30 thoughts on “हे राम नहीं श्री राम कहो २

  1. And Wow !! Delighted to know you superpowered with so many languages 🙂 :p and I know none of these , Hence English or Hindi is fine 🙂 ,and I am not Gujrati too. I am Rajasthani

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s